बैंक खातों के लिए फिंगरफ्रिंट क्लोनिंग करने के आरोप में 6 गिरफ्तार

शाहजहांपुर । उत्तर प्रदेश में शाहजहांपुर पुलिस ने छह लोगों को गिरफ्तार किया है, जिसने इनके पास से आधार कार्ड और बैंक पासबुक और लाभार्थियों के लगभग 500 क्लोन फिंगरप्रिंट जब्त किए हैं।

गिरफ्तार किए गए लोगों में 26 वर्षीय गौरव भी शामिल है, जो कांत इलाके में एक फोटोकॉपी की दुकान चलाता है।

गौरव, जिसने ग्लू-गन और एडहेसिव का उपयोग करके ऑनलाइन फिंगरप्रिंट क्लोनिंग सीखा है, ने बैंक मित्रों के साथ मिलकर कथित तौर पर विभिन्न सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों के लगभग 500 बैंक खातों को हैक कर लिया, जैसे कि पीएम किसान सम्मान योजना, वृद्धावस्था पेंशन आदि।

गौरव ने पुलिस को बताया, “फिंगरप्रिंट का क्लोन बनाने में सिर्फ 5 रुपये लगते हैं।”

आईजी बरेली रेंज, राजेश पांडे ने कहा, “हम मुख्यालय के साथ सूचना साझा करके राज्य में सक्रिय ऐसे गिरोह के बारे में और जानकारी इकट्ठा करने की कोशिश कर रहे हैं।”

कई लाभार्थियों द्वारा बार-बार शिकायत करने के बाद शाहजहांपुर पुलिस ने जिले के जलालाबाद क्षेत्र से चलाए जा रहे रैकेट का खुलासा किया, जिन्हें सरकार से उनके बैंक खातों में पैसा नहीं मिला था।

एसपी, एस. आनंद ने मामला क्राइम ब्रांच को सौंप दिया, जिसमें पाया गया कि हालांकि पैसा लाभार्थियों के खातों में जमा किया गया था, लेकिन बाद में इसे जन सुविधा केंद्रों द्वारा निकाल लिया गया, जिसे बैंक मित्रों द्वारा चलाया जा रहा था।

आगे की जांच में शिवराम, सुनील त्रिपाठी, देवव्रत, संदीप सिंह, शेहरुन, राजवीर और हुकुम सिंह के नाम सामने आए, ये सभी बैंक मित्र हैं।

जानकारी जुटाने के बाद, चार आरोपियों- शिवराम, सुनील त्रिपाठी, देवव्रत और संदीप सिंह को क्लोन किए गए उंगलियों के निशान और कई नकली स्टैंप के साथ गिरफ्तार किया गया, जबकि गौरव को बाद में गिरफ्तार किया गया।

पूछताछ के दौरान, यह पाया गया कि गौरव ने ग्लू-गन और एडहेसिव का उपयोग करके बैंक मित्रों के लिए फिंगरप्रिंट क्लोन किया।

गौरव के, जिले के अन्य गिरोहों में भी शामिल रहने का संदेह है।

इस मामले को सुलझाने वाली टीम के लिए 25,000 रुपये के नकद इनाम की घोषणा की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query