spot_img
Saturday, June 19, 2021
spot_img
Horizontal Ticker
चुनाव के नतीजे आने के बाद राजनीतिक हिंसा का मामला तूल पकड़ गया.
चुनाव के नतीजे आने के बाद राजनीतिक हिंसा का मामला तूल पकड़ गया .
चुनाव के नतीजे आने के बाद राजनीतिक हिंसा का मामला तूल पकड़ गया.
चुनाव के नतीजे आने के बाद राजनीतिक हिंसा का मामला तूल पकड़ गया .

मार्ग और मार्गदर्शक

Must read

बदलाव के लिए शिक्षा और उसके प्रस्तोता माता-पिता, भाई-बहन और बंधु, परिस्थितियां, परिवेश, परिवार या प्रकृति जो भी हो, उससे बढ़कर कुछ भी नहीं।

हमारी भावना जैसी होगी, संपादित कर्म, उपार्जित ज्ञान-विज्ञान भी वैसी ही होगी। प्रबुद्ध/श्रेष्ठ/ज्येष्ठ जन जैसा ज्ञान-आचरण देंगे/करेंगे ,अन्य व्यक्ति स्वभावत:उसका वैसा ही अनुसरण करेंगे/करना चाहिए।

उत्थान-पतन की,उद्भव विकास और प्रलय की कहानी सच कहें तो मार्गदर्शन -अनुश्रवण और अनुशरण की निशानी है।

अतः मार्गदर्शक की भूमिका चाहे परिवार/समाज/राष्ट्र या फिर वैश्विक हो, जितना स्पष्ट, निश्चित,विशद और गहराई से युक्त के, साथ ही साथ सर्वजन हिताय बहुजन सुखाय होगा लोक-मंगल के लिए उपयुक्त होगा। गोस्वामी तुलसीदास रचित श्रीरामचरितमानस मार्गदर्शक की महत्ता और उनके गुरुतर दायित्व बोध कराते हुए लिखते हैं:–

मुखिया मुख सो चाहिए
ख़ान पान को एक
पालिय-पोषिय सकल अंग
तुलसी सहित विवेक

आईए जो भी सीखने-सीखाने की भूमिका में संगच्छध्वं संवदध्वं की भावना से प्रेरित होकर सत्यं वद,धर्मं चर, मातृदेवो भव,पितृदेवो भव, आचार्यदेवो भव,राष्ट्रदेवो भव को साकार करते हुए सर्वे भवन्तु सुखिन: के लक्ष्य को प्राप्त करने में अपना शत-प्रतिशत योगदान करने का दृढ़संकल्प ले लें।।

डॉ विजय शंकर

सहायक शिक्षक

आर एल सर्राफ उच्च विद्यालय देवघर

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article

Translate »