औरंगाबाद के नाम को लेकर चल रहा है विवाद

मुंबई : महानगर पालिका चुनावों के मद्देनजर औरंगाबाद में महाविकास अघाड़ी के बीच फिर से तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती हैं। युवासेना प्रमुख और राज्य के पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे का औरंगाबाद में कार्यक्रम में शहर के किसी भी कांग्रेस पदाधिकारी को निमंत्रण नहीं दिया गया है। इस बात से जिला कांग्रेस में खासी नाराजगी है। आदित्य ठाकरे शहर में कई विकास कार्यों का उद्घाटन करने वाले हैं। लेकिन राज्य में महाविकास अघाड़ी की सरकार होने के बावजूद कांग्रेसी को यहां दरकिनार किया गया है।

कांग्रेस पदाधिकारियों की शिकायत है कि शिवसेना की तरफ से जानबूझकर उद्घाटन समारोह से कांग्रेस को दूर रखा गया है। इसी वजह से कांग्रेस के एक पदाधिकारी को कार्यक्रम में आने के लिए निमंत्रण तक नहीं दिया गया। ऐसे में औरंगाबाद में महाविकास अघाड़ी के बीच में फिर से बवाल होने की आशंका जताई जा रही है।

औरंगाबाद के नाम पर विवाद
औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर करने की मांग पर अड़ी शिवसेना और कांग्रेस के बीच में पहले से ही विवाद चल रहा है। सीएमओ के टि्वटर अकाउंट परभणी औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर लिखा गया था। जिसको लेकर पूरे राज्य में काफी बयान बाजी भी हुई थी। कांग्रेस के नेता और राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने शिवसेना की इस मांग का कड़ा विरोध किया था।

औरंगाबाद में पोस्टर वार
औरंगाबाद का नाम बदलने को लेकर पहले से ही विवाद चल रहा है। ऐसे में भाजपा और शिवसेना के बीच में फिर से शहर में पोस्टर वार शुरू हो चुका है। शिवसेना की सुपर संभाजी नगर कैंपेन का विरोध भाजपा की शहर इकाई ने नमस्ते संभाजीनगर बैनर लगाकर किया है। पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे 16 जनवरी को औरंगाबाद जिले के दौरे पर हैं। जिसकी वजह से शहर का सियासी तापमान गर्म हो चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query