यदि आपके मुंह से आती है दुर्गंध तो करें घर में मौजूद इन 5 चीज़ों का सेवन

शरीर में पानी की कमी होने से कई तरह की तकलीफ हो सकती है। कम पानी का सेवन करने से सांसों की समस्या, पेट की संबंधित समस्या जैसे पाचन शक्ति कमजोर होना शामिल है। जब सही तौर पर खाना नहीं पचता है तो सांस में बदबू आती है।अक्सर लोग मुँह की बदबू से परेशान रहते है। क्योकि अगर आपके मुँह से भी बदबू आती है और आपके पास भी कोई बैठता है तो वह मुँह चढ़ाता है तो आप भी शर्म के मारे पानी पानी हो जाते है अगर आपभी इस समस्या से गुजर रहे हैं तो यहाँ दिए जा रहे टिप्स पर गौर कीजिए,

एक सुंदर चेहरे के साथ चमकदार दांत होना भी खास है लेकिन अगर सांसों से बदबू आए तो कोई आपके साथ बैठना तो दूर, बात करना तक पसंद नहीं करना चाहेगा। केवल सामाजिक व्यवहार के लिए ही नहीं बल्कि सेहतमंद रहने के लिए भी अपने मुंह से आने वाली दुर्गंध यानी बदबू दूर करना जरूरी है। मुंह से बदबू आने की समस्या कोई आम बात नहीं है, ये शरीर में किसी बीमारी का उत्पन्न होने का भी संकेत हो सकता है।

ज्यादा बढ़ जाने पर आपको डॉक्टर से भी एक बार जरूर संपर्क करना चाहिए। सांसों की दुर्गंध को मेडिकल भाषा में हेलिटोसिस (Halitosis) कहा जाता है। वहीं, अगर आपके साथ भी कुछ ऐसी समस्या हो रही है या फिर इस तरह के लक्ष्ण हैं तो ऐसे में जरूरी है कि आप घरेलू उपायों को अपना लें। आज हम आपको मुंह से दुर्गंध आने के लक्षण, दुर्गंध आने के कारण और मुंह से दुर्गंध हटाने के घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं, आइए जानते हैं…

मुंह से दुर्गंध आने के लक्षण

– बलगम आना

– नाक बहना

– दांतों का कमजोर होना

– मसूड़ों में सूजन और दर्द

– ब्रश करते समय खून आना

– बुखार का चढ़ना और उतरना

– लंबे समय से खांसी का रहना

– बार-बार मुंह में छाले की समस्या

दुर्गंध आने की वजह

मुंह से दुर्गंध आने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें ओरल इन्फेक्शन, फास्ट फूड के अधिक सेवन, मुंह का सुखापन या फिर किसी भी तरह के नशा करना शामिल है। हमारे मुंह को हाइड्रेट रखने में मुंह में मौजूद लार यानी सलाइवा मदद करता है। इसके अलावा ये दांतों को कई बीमारियों से भी बचाता है। हालांकि, मुंह में सलाइवा की कमी होने से दांतों में कई तरह की समस्या होने की संभावना हो सकती है।

खूब पानी पीएं

शरीर में पानी की कमी होने से कई तरह की तकलीफ हो सकती है। कम पानी का सेवन करने से सांसों की समस्या, पेट की संबंधित समस्या जैसे पाचन शक्ति कमजोर होना शामिल है। जब सही तौर पर खाना नहीं पचता है तो सांस में बदबू आती है। ऐसे में जरूरी है कि आप खाना खाने के बाद टहलें और ज्यादा से ज्यादा पानी भी पीएं।

नीम के दातून का इस्तेमाल

नीम का पेड़ पर्यावरण को शुद्ध करने में मदद करता है। इसका उपयोग दवा बनाने में भी किया। वहीं, नीम का दातून यानी नीम की डंडी से अपने दांतों को मजबूत बनाए रखा जा सकता है। इसके अलावा नीम का दातून सांसों से आने वाली बदबू की समस्या को भी दूर करता है। इसलिए रोजाना दिन में दो बार नीम के दातून से अपने दांतों को जरूर साफ करें।

पुदीना दूर करेगा दुर्गंध

आप अपने मुंह से आने वाली दुर्गंध की समस्या से परेशान हैं तो ऐसे में पुदीना चबाना काफी मददगार साबित हो सकता है। इसे अपनाने से आपके मुंह से बदबू आनी बंद हो जाएगी।

खाने के बाद सौंफ

मुंह से बदबू आने कारण कई बार हमारे द्वारा सेवन किया गया भोजन भी हो सकता है। लहसुन, प्याज, मांस-मछली का सेवन करने पर भी ये समस्या होना आम बात है। ऐसे में जरूरी है कि आप खाना खाने के बाद सौंफ जरूर खाएं। इसका सेवन करने पर आपकी सांसों से दुर्गंध नहीं आएगी।

सही ढंग से करें ब्रश

सही तौर पर ब्रश करने की बात आप अपने घर में बच्चों को सीखाते होंगे, लेकिन हम में से भी कुछ ऐसे लोग होते हैं जो गलत तरह से ब्रश करते हैं। बता दें कि सही ढंग से ब्रश करने का मतलब ये होता है कि आपको अपने दांतों को कुछ समय तक अच्छे से ब्रश को घुमाना चाहिए। ऐसे में जल्दबाजी करना, भविष्य में आपके दांतों के लिए ही समस्या खड़ी कर सकते हैं। ब्रश करने के दौरान मसूड़ों का खास ध्यान रखें। ब्रश करने के बाद माउथ फ्रेशनर का प्रयोग जरूर करें। ऐसा करने से आपके मुंह से आने वाली बदबू को खत्म किया जा सकता है।

# नीम या बबूल की नरम डाली का ब्रश बनाकर दाँत साफ करने से दुर्गंध दूर होती है।

# 5 ग्राम सौंफ या धनिया या इलायची चबाने से मुख शुद्धि होती है।

# इलायची और पुदीना डालकर पान चबाना लाभकर है। इलायची, दालचीनी तथा सूखी पुदीना पत्ती डालकर बनाए गए घोल से गरारे करना दुर्गंध मिटाता है। इलायची चबाना भी दुर्गंध रोकता है।

# एक कप पानी में जीरे के तेल की 2-3 बूंदें डालकर गरारे करने से लाभ होता है।

# छुआरे की गुठली के चूर्ण से मंजन करने से साँस की दुर्गंध मिटती है। और सबसे महत्वपूर्ण है, सोने से पहले मंजन करें, पानी भरपूर पिएँ, दोनों समय शौच जाएँ, जल्द हजम होने वाला भोजन करें तथा किसी से भी बात करें तो दो फीट की दूरी से बात करें।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query