श्रीलंका पहुंचे इमरान खान को याद आए गौतम बुद्ध, प्रोटोकॉल तोड़ महिंदा राजपक्षे ने की अगवानी

कोलंबो : पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भारत के एयरस्पेस से होते हुए श्रीलंका की अपनी पहली यात्रा पर कोलंबो पहुंच गए हैं। एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी के लिए श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे प्रोटोकॉल तोड़कर खुद पहुंचे थे। श्रीलंका में इमरान खान के इस ग्रैंड वेलकम को देखते हुए भारत चौकन्ना है। कोलंबो पहुंचते ही इमरान खान ने महात्मा बुद्ध को याद कर श्रीलंका को लुभाने की कोशिश भी की।

श्रीलंकाई पीएम के साथ की द्विपक्षीय बैठक
कोलंबो पहुंचने के बाद से इमरान खान ने श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के साथ द्विपक्षीय बैठक भी की है। इस दौरान व्यापार, निवेश, स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के अलावा रक्षा और सांस्कृतिक पर्यटन जैसे विभिन्न मुद्दों पर दोनों नेताओं के बीच बात भी हुई है। कोविड-19 महामारी के बाद इमरान खान श्रीलंका की यात्रा करने वाले पहले राष्ट्राध्यक्ष हैं। खान यहां राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के साथ भी बैठक करेंगे।

महात्मा बुद्ध को याद कर श्रीलंका को लुभाया
बैठक के दौरान इमरान खान के गौतम बुद्ध को याद कर आतंकवाद का रोना रोया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और श्रीलंका दोनों ने आतंकवाद की समस्या का सामना किया है। दोनों देशों का पर्यटन आतंकवाद से जूझता रहा है और अब कोरोना वायरस एक बड़ी चुनौती बनकर उभरा है। उन्होंने कहा कि मैं श्रीलंका के प्रधानमंत्री को महानतम बुद्ध की विरासत की यात्रा के लिए पाकिस्तान आमंत्रित करता हूं। हालांकि, इमरान खान यह बताना भूल गए कि उनके देश में बुद्ध के इतिहास को भुला दिया गया है। बुद्ध की कई ऐतिहासिक मूर्तियों को कट्टरपंथी तोड़ चुके हैं।

कोलंबो में दोनों देशों के बीच व्यापार और निवेश बढ़ाने के उद्देश्य से आयोजित एक संयुक्त व्यापार और निवेश सम्मेलन में भी इमरान खान शिरकत करेंगे। इस यात्रा के दौरान द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने के लिये कई समझौतों पर हस्ताक्षर भी किये जाएंगे।

पीएम बनने से पहले श्रीलंका जा चुके हैं इमरान
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का पदभार 2018 में संभालने के बाद खान का यह पहला श्रीलंका दौरा है। इससे पहले, वह 1986 में श्रीलंका आए थे, जब वह पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के कप्तान थे। उस दौरान टेस्ट मैच की श्रृंखला में उन्होंने स्थानीय अंपायरों पर पक्षपात का आरोप लगाया था। नवाज शरीफ के 2016 में श्रीलंका के दौरे के बाद यह किसी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री का पहला श्रीलंका दौरा है।

संसद संबोधन को रद्द कर चुका है श्रीलंका
इमरान खान के दौरे से पहले श्रीलंका सरकार ने उनके संसद के संयुक्त सत्र के प्रस्तावित संबोधन के कार्यक्रम को पिछले हफ्ते रद्द कर दिया था। सरकार ने ऐसा करने के पीछे कोविड-19 महामारी का हवाला दिया था। ऐसा कहा जाता है कि पाकिस्तानी सरकार के अनुरोध पर खान के कार्यक्रम में संसद को संबोधित करने को शामिल किया गया था। यह संबोधन 24 फरवरी को होना था।

पाकिस्तानी मीडिया ने भारत पर लगाया था आरोप
पाकिस्तान के डान अखबार ने श्रीलंकाई मीडिया की खबरों का हवाला देते हुए कहा था कि श्रीलंकाई सरकार में कुछ ऐसे तत्व थे, जो यह नहीं चाहते थे कि यह संबोधन हो क्योंकि उन्हें डर था कि इससे भारत के साथ देश (श्रीलंका) के संबंधों को और नुकसान पहुंच सकता है जो पहले से ही कोलंबो बंदरगाह पर ईस्ट कंटेनर टर्मिनल करार के रद्द होने से तनावपूर्ण हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query