महाराष्‍ट्र में ऑपरेशन लोटस की चर्चा शिवसेना बोली पुडुचेरी न समझे BJP’

मुंबई : पुडुचेरी में कांग्रेस सरकार के पतन के बाद बीजेपी का अगला निशाना महाराष्ट्र होगा, इन चर्चाओं के बीच शिवसेना ने कहा है कि बीजेपी महाराष्ट्र को पुडुचेरी न समझे। यह याद रखें कि यहां शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार है और उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री हैं।

शिवसना ने अपने मुखपत्र में लिखा है कि पुडुचेरी केंद्र शासित और छोटा राज्य है। 30 निर्वाचित विधायकों और 3 मनोनीत विधायकों को मिलाकर कुल 33 विधायकों की विधानसभा है। मुख्यमंत्री नारायण सामी की सरकार को समर्थन देनेवाले पांच विधायकों के मेंढकों की तरह कूदने के कारण कांग्रेस सरकार अल्पमत में आ गई। पांच विधायकों ने साढ़े चार साल तक कांग्रेस की सरकार को समर्थन दिया। उसमें एआईडीएमके के विधायक भी थे लेकिन अब ये सारे विधायक कमल के फूल के भंवरे बन गए हैं।

ऑपरेशन लोटस की चर्चा
बीजेपी के कुछ नेताओं ने कहा है कि पुडुचेरी की सरकार गिराकर दिखा दिया है। अब मार्च-अप्रैल महीने में महाराष्ट्र में ‘ऑपरेशन लोटस’ की शुरुआत करेंगे। मध्य प्रदेश की सरकार गिराई तब भी ‘अगला वार महाराष्ट्र पर’ की घोषणा की गई थी। उसके बाद ‘बिहार का परिणाम आने दो, फिर देखो महाराष्ट्र में कैसे परिवर्तन लाते हैं’, जैसी बातें की गईं। अब पुडुचेरी की बात शुरू है, लेकिन जैसे ‘दिल्ली बहुत दूर है’ उसी प्रकार ‘महाराष्ट्र तो बहुत ही दूर है!’

राज्यपाल कढ़ी का पत्ता
शिवसेना ने लिखा है कि पुडुचेरी की नायब राज्यपाल किरण बेदी ने सामी की सरकार को ठीक से काम नहीं करने दिया। केंद्र शासित राज्य होने के कारण वहां के राज्यपाल को कुछ ज्यादा ही अधिकार होता है। इसलिए मुख्यमंत्री द्वारा जनहित में लिए गए हर निर्णय को किरण बेदी बदलने लगीं। राज्यपाल महाराष्ट्र के हों या पुडुचेरी के, उन्हें दिल्ली का आदेश मानते हुए ही उठापटक करनी पड़ती है। राज्यपाल का उपयोग भोजन की थाली के कढ़ी पत्ते जैसा किया जाता है। किरण बेदी को भी कढ़ी पत्ते की तरह उपयोग करके फेंक दिया गया है, महाराष्ट्र में छौंक लगानेवाले ‘भाजीपालों’ को ये बात समझ लेनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query