मुजफ्फरपुर व गोरखपुर ट्रेन बंद होंगी, टिकट ले चुके 6.42 लाख यात्री अधर में

सूरत : गुजरात में 21 से 28 फरवरी तक महानगर पालिकाओं, नगर पालिकाओं और पंचायतों के लिए मतदान संपन्न हो जाएगा और 28 व 1 मार्च को रेलवे ने यूपी-बिहार जाने वाली दो महत्वपूर्ण ट्रेनों को बंद करने का निर्णय ले लिया है। इन दोनों ट्रेनों में 16 जून तक आने-जाने के लिए 6.42 लाख लोगों ने टिकट बुक किए हैं। 3 लाख से ज्यादा टिकट तो सूरत से बुक हैं।

रेलवे ने 28 फरवरी से अहमदाबाद-मुजफ्फरपुर और 1 मार्च 2021 से अहमदाबाद-गोरखपुर ट्रेन बंद करने का पत्र जारी कर दिया है। ये दोनों ट्रेनें रोज चलती हैं। इनसे बड़ी संख्या में यूपी-बिहार के यात्री सफर करते हैं। इन ट्रेनों के बंद होने से उन यात्रियों को काफी परेशानी होगी, जिन्होंने होली मनाने और शादी-विवाह में शामिल होने के लिए टिकट बुक किए हैं।

अनलाॅक होने के बाद अहमदाबाद, वडोदरा और सूरत के उत्तर भारतीय यात्रियों के लिए 09083 अहमदाबाद-मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस और 09084 अहमदाबाद-गोरखपुर ट्रेन चलाई गई थीं। इन ट्रेनों के चलने से सूरत से ताप्ती गंगा और उधना-दानापुर एक्सप्रेस पर यात्रियों की निर्भरता कम हो गई थी। इन दोनों ट्रेनों को बंद कर रेलवे बांद्रा से गोरखपुर के बीच साप्ताहिक हमसफर एक्सप्रेस चलाएगी। ये हमसफर सूरत, वडोदरा, उज्जैन, बीना, कटनी, छिवकी के रास्ते चलेगी। इसका किराया महंगा होगा।

समस्या: 16 जून तक हो चुकी है 4 महीने की एडवांस बुकिंग

09083 अहमदाबाद-मुजफ्फरपुर और 09084 अहमदाबाद-गोरखपुर एक्सप्रेस की चार महीने की एडवांस बुकिंग 16 जून तक पूरी हो गई है। दोनों ट्रेनों की अप-डाउन ट्रिप में लगभग 6.42 लाख से ज्यादा टिकट के रिजर्वेशन हो चुके हैं। होली और गर्मी की छुट्टियों में गांव जाने के लिए लोगों ने इन ट्रेनों में बुकिंग कराई है।

इनमें से अकेले सूरत से जाने और आने के लिए साढ़े तीन लाख से ज्यादा लोगों ने बुकिंग कराई है। रेलवे ने जो पत्र जारी किया है, उसमें स्पष्ट लिखा है कि 09083 विशेष ट्रेन अहमदाबाद से 28 फरवरी से और 09084 विशेष ट्रेन मुजफ्फपुर से 2 मार्च से डिस्कंटिन्यू होगी। इसी तरह 09089 विशेष ट्रेन अहमदाबाद से 1 मार्च से और 09090 विशेष गोरखपुर से 3 मार्च से गोरखपुर से डिस्कंटिन्यू होगी।

जानकारी देने से कतराते रहे अधिकारी
भास्कर ने इस संबंध में पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर को सात बार फोन किया। उन्हें रेलवे का पत्र भी भेजा, लेकिन उनकी तरफ से कोई जानकारी नहीं दी गई। इसके अलावा अहमदाबाद मंडल में भी परिचालन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी को यह पत्र भेजा तो उन्होंने कहा कि कन्फर्मेशन लेकर बताता हूं पर बताया नहीं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ये कोरोना के समय चलाई गई विशेष ट्रेन थीं। इन पर अंतिम निर्णय लिया जाना है।

सूरत से छिवकी तक का सफर 18-19 घंटे में पूरा कर लेती हैं दोनों ट्रेनें

09089 अहमदाबाद-गोरखपुर स्पेशल एक्सप्रेस रोज अहमदाबाद से रात 11.45 को रवाना होकर सूरत तड़के 3 बजे पहुंचती है और रात 10 बजे प्रयागराज छिवकी, जबकि सुबह 5.30 बजे गोरखपुर पहुंचती है। इसी तरह 09084 अहमदाबाद-मुजफरपुर स्पेशल एक्सप्रेस अहमदाबाद से रात 10 बजे चलती है और सूरत रात 1.20 बजे पहुंचती है।

जबकि उसी दिन शाम 7.45 बजे प्रयागराज छिवकी पहुंच कर और सुबह 4 बजे मुजफ्फरपुर पहुंचती है। इस तरह से दोनों ट्रेनें सूरत से 18 से 19 घंटे में ही प्रयागराज छिवकी का सफर तय कर लेती हैं। ये दोनों ट्रेनें सबसे कम समय में सूरत से छिवकी पहुंचाने वाली ट्रेनें हैं।

इन ट्रेनों के चलने से वर्तमान में ताप्ती गंगा, अवध एक्सप्रेस की वेटिंग सूची कम होकर आरएसी में भी बदल रही है क्योंकि लोगों को विकल्प मिला है और उनकी निर्भरता ताप्ती और अवध एक्सप्रेस पर से घटी है। सूरत से 70 प्रतिशत ऑक्युपेंसी मिलने के बाद भी इन दोनों ट्रेनों को बंद करने का निर्णय ले लिया गया है।

वादे से मुकरी रेलवे
कंटिन्यू करने की बजाय डिसकंटिन्यू कर दिया

पिछले साल दिवाली पर रेलवे ने कहा था कि अहमदाबाद-गोरखपुर और अहमदाबाद-मुजफ्फरपुर स्पेशल एक्सप्रेस की ऑक्यूपेंसी सूरत से 100% है। ये ट्रेनें कम से कम समय में अपने गंतव्य पहुंच रही हैं। ये ट्रेन रोज चलाई जा रही हैं। हमारी योजना है कि कोविड 19 का प्रभाव जब खत्म हो जाएगा तो इन्हें इसी शेड्यूल पर रोज चलाया जाएगा। इससे सूरत-वडोदरा में रहने वाले उत्तर भारत के लोगों को रोज 2 नियमित ट्रेनें मिल सकेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query