नारायण राणे के मेडिकल कॉलेज के समारोह में होंगे शामिल

सिंधुदुर्ग (महाराष्ट्र) : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज सिंधुदुर्ग जिले में एसएसपीएम लाइफटाइम मेडिकल कॉलेज और अस्पताल का उद्घाटन करने आ रहे हैं। शाह का ये पहला सिंधुदुर्ग दौरा है। इससे पहले अमित शाह शनिवार को यहां आने वाले थे लेकिन किसानों के चक्काजाम के बाद उनका दौरा टल गया था। एसएसपीएम लाइफटाइम मेडिकल कॉलेज महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे का है। सिंधुदुर्ग नारायण राणे का होम टाउन है। उधर, शाह के दौरे से पहले राणे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर तीखा हमला किया है।

उन्होंने पुणे में सरजील उस्मानी द्वारा हिंदुओं के खिलाफ भड़काऊ बयान देने के बावजूद महाराष्ट्र में ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा कई दिनों तक चुप्पी साधे जाने पर सवाल खड़ा करते हुए कहा, “ उद्धव ठाकरे ने हिंदुत्व के लिए क्या किया है? बाला साहेब ठाकरे के समय में शिवसेना की बात अलग थी। परंतु अब हिंदुत्व के लिए वे (उद्धव) क्या कर सकते हैं? वे अभी तक कोरोना से बाहर नहीं निकल पाएं हैं। सिर्फ हाथ धोओ और यह करो वह करो जैसी रोजना अपील कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, जिस दिन महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस-राकांपा और अन्य दलों के साथ मिलकर राज्य में महाविकास आघाड़ी की सरकार बनाई, उसी दिन शिवसेना ने हिंदुत्व को चिलांजली दे दी। उन्होंने मुख्यमंत्री पद व अपने व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए हिंदुत्व छोड़ दिया।

बांद्रा में सबसे अधिक गंदगी, शिवसेना मुंबई को वर्ल्ड क्लास टूरिस्ट सिटी नहीं बना पाई: राणे
पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता नारायण राणे ने कहा, “इस बार सौ फीसदी मुंबई मनपा में भाजपा का मेयर बनेगा और शिवसेना की सत्ता को हम वहां से उखाड़ फेंकेंगे। 25 साल से अधिक समय तक मुंबई मनपा की सत्ता शिवसेना के हाथ में होने के बावजूद शिवसेना मुंबई को वर्ल्ड क्लास टूरिज्म सिटी के रूप में डेवलप नहीं कर पाई है।” उन्होंने सत्तारूढ़ दल शिवसेना की खिंचाई करते हुए कहा कि बांद्रा में जितनी गंदगी है। उतना दुनिया में कहीं नहीं होगी। बता दें कि बांद्रा (पूर्व) कला नगर इलाके में ही मुख्यमंत्री एवं शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे रहते हैं।

मेडिकल क्षेत्र के 400 लोगों को मिला रोजगार: राणे
भाजपा के वरिष्ठ नेता नारायण राणे ने बताया दिया उन्होंने सिंधुदुर्ग जिले में 71 एकड़ में जिस पहले मेडिकल कॉलेज का निर्माण कराया है। उसके अस्पताल में सवा दो सौ और कॉलेज में करीब 150 लोगों को मिलाकर मेडिकल क्षेत्र से जुड़े लगभग 400 लोगों को रोजगार मिला है। यह रोजगार पाने वाले ज्यादातर लोग नए हैं क्योंकि जिस जगह मेडिकल कॉलेज और अस्पताल का निर्माण कराया गया है। वहां पहले सिर्फ जंगल था। रोजगार का अवसर मिलने की बात ही दूर रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query