कानून के सामने ना कोई मंत्री बड़ा है और ना कोई संत्री

मुंबई ; बीते 3 दिनों से सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे पर  लगे बलात्कार के आरोपों की वजह से महाराष्ट्र की सियासत में भूचाल से आया हुआ था। इस मुद्दे पर महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने आखिरकार मौन तोड़ते हुए बोला है कि कानून से बड़ा कोई नहीं है। कानून किसी से भी भेदभाव नहीं करेगा। जो दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी। कानून के सामने ना कोई मंत्री बड़ा है और ना कोई संत्री। कानून के सामने सब समान हैं। फिलहाल धनंजय मुंडे पर लगे आरोपों की जांच शुरू है। इसमें जो कुछ भी निकलेगा उसके हिसाब से कानूनी कार्यवाई की जाएगी।

मुंडे को मिला परिवार का साथ
महाराष्ट्र के सामाजिक न्याय मंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के बड़े नेता धनंजय मुंडे पर बलात्कार के गंभीर आरोप के बाद उनके परिवार का एक भी सदस्य उनके बचाव में नहीं आया था। हालांकि अब धनंजय मुंडे के बड़े बहनोई पुरुषोत्तम केंद्रे ने इस मामले में पीड़िता के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। यह शिकायत मुंबई में दर्ज करवाई गई है। इसके बाद धनंजय मुंडे को परिवार का भी पूरा समर्थन मिलता हुआ नजर आ रहा है।

इस्तीफा नहीं देंगे धनंजय मुंडे
महाराष्ट्र सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे पर लगे बलात्कार के आरोप मामले में उन्हें थोड़ी राहत मिलती हुई नजर आ रही है। बीती रात हुई एनसीपी कोर कमेटी की बैठक में यह फैसला हुआ है कि फिलहाल धनंजय मुंडे से इस्तीफा नहीं लिया जाएगा और पार्टी पुलिस इन्वेस्टिगेशन के आधार पर बाद में फैसला लेगी।

गुरुवार दोपहर के बाद तेजी से बदलते घटनाक्रम को देखते हुए एनसीपी ने यह फैसला लिया है। जब पीड़िता के खिलाफ पूर्व विधायक कृष्णा हेगडे  अंबोली पुलिस स्टेशन में हनी ट्रैप में फंसाने का की शिकायत दर्ज करवाई। इसके अलावा मनसे नेता मनीष धुरी ने भी कहा कि वह भी 10 साल पहले पीड़िता के जाल में फंसने से बचे हैं। आपको बता दें कि पीड़िता ने ओशिवारा पुलिस स्टेशन में धनंजय मुंडे के खिलाफ प्रीति शिकायत दर्ज करवाई थी। इस मामले में पीड़िता का बयान दर्ज किया जाएगा।

एनसीपी कोर कमिटी की बैठक
एनसीपी नेता प्रफुल पटेल के घर पर गुरुवार रात देर तक राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी कोर कमिटी की बैठक हुई। इस बैठक में  एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार, उपमुख्यमंत्री अजित पवार, सांसद सुप्रिया सुले, नवाब मलिक राजेश टोपे, गृह मंत्री अनिल देशमुख और गृह निर्माण मंत्री जितेंद्र अव्हाड मौजूद थे। इस बैठक में धनंजय मुंडे के मुद्दे पर विस्तार से चर्चा हुई। बैठक के बाद जयंत पाटिल ने पार्टी की भूमिका बताते हुए कहा कि पार्टी धनंजय मुंडे के साथ पूरी ताकत से खड़ी है।

धनंजय मुंडे की धमकी
महाराष्ट्र के सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे के ऊपर लगाए गए रेप के गंभीर आरोप के बाद राज्य का सियासी पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया है। इस मामले में पीड़िता के वकील ने धनंजय मुंडे पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्होंने पीडिता के भाई और बहन को धमकी देते हुए कहा है कि अगर शिकायत वापस नहीं लिया तो पूरे परिवार को एक्सटॉर्शन के केस में जेल भिजवा दूंगा। तुम लोगों को मेरी ताकत का अंदाजा नहीं है।

पीड़िता का बयान दर्ज

पीड़िता मुंबई के डीएन नगर पुलिस स्टेशन में अपना बयान दर्ज करवाएंगी। उनके वकील ने बताया कि शिकायत दर्ज करवाने के बाद 4 दिन गुजर चुके हैं। लेकिन अभी भी एफआईआई फाइल नहीं की गई है। धनंजय मुंडे लगातार दबाव बना रहे हैं। पीड़िता को फर्जी केस में फंसाने की बात कही जा रही है।

तनाव में दिखे मुंडे
अपने ऊपर लगे बलात्कार के आरोप के बाद भी महाराष्ट्र के सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे  ने अपने दैनिक कार्यक्रमों को बिल्कुल जस का तस रखा है। इस गंभीर आरोप के बाद बावजूद उन्होंने अलग-अलग बैठकों में शिरकत की। इसके अलावा उन्होंने हमेशा की तरह जनता दरबार भी लगाया। जिसमें जनता के प्रश्नों का समाधान करने की कोशिश की। हालांकि जनता दरबार में धनंजय मुंडे के चेहरे पर तनाव साफ दिखाई पड़ रहा था।

मुंडे के खिलाफ बलात्कार की शिकायत
महाराष्ट्र सरकार  के कैबिनेट मंत्री धनंजय मुंडे के खिलाफ मुंबई के ओशिवारा पुलिस स्टेशन में एक सिंगर ने बलात्कार की शिकायत दर्ज करवाई है। सिंगर का आरोप है कि पहले उसने मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को पत्र लिखकर इस बात की शिकायत की थी। लेकिन वहां से कोई कार्रवाई नहीं की गई।

पुलिस थाने में दर्ज हुई शिकायत
मुंबई के ओशिवारा पुलिस स्टेशन में एक महिला ने मंत्री धनंजय मुंडे के खिलाफ रेप की शिकायत दर्ज करवाई है। पीड़ित महिला ने यह भी आरोप लगाया है कि ओशिवारा पुलिस स्टेशन ने भी उसकी शिकायत को दर्ज नहीं किया गायिका ने कहा कि उसकी जान खतरे में है। पीड़िता ने धनंजय मुंडे पर साल 2006 से यौन शोषण करने का आरोप लगाया है। बॉलीवुड में मौका दिलाने के नाम पर जबरदस्ती पीड़िता के साथ शारीरिक संबंध बनाये गए।

मुंडे ने दी सफाई

धनंजय मुंडे ने भी सोशल मीडिया पर अपनी सफाई पेश करते हुए कहा है कि मुझे बदनाम और ब्लैकमेल करने की साजिश की जा रही है। मेरे खिलाफ लगाए गए सभी आरोप गलत और झूठे हैं। मुंडे ने कहा कि पत्नी के अलावा एक दूसरी महिला के साथ 2003 से मेरे संबंध थे। यह बात मेरे परिवार पत्नी और मित्र परिवार को पता थी। सहमति के आधार पर बने इन संबंधों से मुझे एक लड़का और एक लड़की भी कोई है। इन दोनों बच्चों को मैंने अपना नाम भी दिया है। स्कूल में एडमिशन से लेकर सभी दस्तावेजों में पिता के तौर पर मेरा नाम है। यह बच्चे मेरे साथ ही रहते हैं मेरे परिवार में पत्नी और मेरे बच्चों ने इन बच्चों को भी परिवार के सदस्य के रूप में स्वीकार किया है।

मैंने अपना पक्ष रखा है
धनंजय मुंडे ने कहा कि उन्होंने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मिलकर अपना पक्ष रखा है। अब पवार साहब इस विषय पर निर्णय लेंगे। जो भी फैसला उनका और पार्टी का होगा वह मुझे मंजूर होगा। अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हुई है कि आखिर शरद पवार धनंजय मुंडे के मुद्दे पर क्या फैसला लेते हैं। हालांकि पवार ने खुद कहा है कि धनंजय मुंडे पर जो आरोप लगे हैं वह बेहद गंभीर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query