50 वर्ष से अधिक उम्र के लाेगाें काे वैक्सीन अगले 2 से 3 सप्ताह में

नई दिल्ली : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सोमवार को कहा कि देश की जरूरताें के हिसाब से टीकाकरण किया जा रहा है। अगले दाे से तीन सप्ताह में 50 साल से ज्यादा उम्र के लाेगाें काे वैक्सीन लगनी शुरू कर दी जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री से पूछा गया था कि देश में पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध होने के बाद भी प्राथमिकता वाले दूसरे समूह के लोगों को वैक्सीन क्यों नहीं दी जा रही है?

इसके जवाब में उन्हाेंने कहा, ‘कितनी वैक्सीन उपलब्ध है, इसमें से कितनी किस देश को और कैसे देनी है, इसके लिए नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सिनेशन एडमिनिस्ट्रेशन फाॅर कोविड-19 बना है। वही रणनीति तय करता है।’ उन्होंने बताया कि इस समय 18 से 19 वैक्सिन क्लीनिकल ट्रायल के अलग-अलग चरणाें में हैं।

वहीं सूत्राें का कहना है कि टीका लगवाने के लिए जब स्वास्थ्यकर्मियाें का आना कम हुआ तो फ्रंटलाइन (कोराेना से मुकाबले में तैनात अन्य लोग) को वैक्सीन देना शुरू किया गया। जब फ्रंटलाइन वाले समूह के लोगों के आने की रफ्तार कम होगी, तब दूसरे समूह का भी जल्द टीकाकरण शुरू हो जाएगा।

इनमें सबसे पहले 50 साल से ज्यादा 27 कराेड़ लाेग हैं। सरकार ने एक कराेड़ स्वास्थ्यकर्मियाें और दाे कराेड़ फ्रंटलाइन कार्यकर्ताअाें के साथ इस वर्ग (50 साल से ऊपर के) काे भी प्राथमिकता वाले 30 कराेड़ लोगों में शामिल किया है। देश में अभी करीब 83 लाख स्वास्थ्यकर्मियाें और फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं काे टीका लग चुका है।

दूसरी खुराक काे लेकर आईसीएमआर तय कर रही है दिशानिर्देश

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के महासचिव डॉ जयेश लेले के मुताबिक वैक्सीन की दूसरी खुराक कब लगनी है, इस पर अभी और स्पष्टता आनी है। आईसीएमआर इस पर विस्तृत दिशा-निर्देश तय कर रही है। तीन-चार दिनों में स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। इसके बाद वैक्सिनेशन तेजी से बढ़ेगा। कई लोग दूसरे डोज के लिए नहीं आए हैं। कुछ का मानना है कि दूसरा डोज छह सप्ताह पर लगना चाहिए।

छत्तीसगढ़ सरकार का कोवैक्सीन लाैटाना, वहां के लोगों की बदकिस्मती
हर्षवर्धन ने छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से भारत बायोटेक की कोवैक्सीन लौटाने पर कहा, ‘मैं इसमें क्या कहूं। सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि यहां रहने वाले भी भारतीय हैं, यह उनकी बदकिस्मती है। मैंने छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर अवगत कराया है कि आपकी आशंका, सही नहीं है।

पूरे कोरोना काल में प्रधानमंत्री स्वयं और स्वास्थ्य मंत्रालय ने वैज्ञानिक तरीके से काम किया है। छत्तीसगढ़ सरकार ने भी इसमें साथ दिया है।’ गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ ने कोवैक्सीन के सुरक्षित हाेने पर सवाल उठाए हैं।

केस फिर 10 हजार से ऊपर…

देश में 12 फरवरी काे काेराेना के नए केस 10 हजार से कम हुए थे, लेकिन यह आंकड़ा एक बार फिर 10 हजार से अधिक हाे गया। मंगलवार काे 11,649 केस मिले। हालांकि 90 माैतें हुईं। यानी इनका अांकड़ा 100 से कम बना हुआ है। अब कुल संक्रमिताें की संख्या एक कराेड़ 9 लाख से ज्यादा हाे गई है। सक्रिय केसों में 1,39,637 हैं। देश में 74% नए केस वाले केरल और महाराष्ट्र हैं। केरल में 4,612 अाैर महाराष्ट्र में 4,092 केस सामने आए।

16 जनवरी को 6093 को लगा था पहला टीका, दूसरी डोज के पहले दिन 4097 ही पहुंचे
राजधानी हरियाणा प्रदेश में सोमवार को हेल्थवर्कर्स को वैक्सीन की दूसरी डोज लगनी शुरू हो गई। 16 जनवरी को टीकाकरण के पहले दिन जिन 6093 हेल्थवर्कर्स को टीके लगे थे, उनमें से दूसरी डोज लगवाने सोमवार को 4097 हेल्थवर्कर्स ही पहुंचे। सोनीपत में सबसे ज्यादा 861 हेल्थवर्कर्स को दूसरा टीका लगा।

महेंद्रगढ़, पलवल, दादरी में कोई भी दूसरा टीका लगवाने नहीं पहुंचा। वहीं, 5243 हेल्थवर्कर्स व फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई। अब तक 210012 हेल्थवर्कर्स व फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query