दस माह बाद दो शटल ट्रेन शुरू करने की तैयारी में रेलवे

फरीदाबाद : कोरोना काल में बंद हुईं लोकल ट्रेनों के परिचालन की उम्मीद जगी है। करीब दस माह 26 दिन बाद रेलवे पलवल-नई दिल्ली-शकूरबस्ती और गाजियाबाद के बीच दो शटल ट्रेनों का परिचालन शुरू करने की तैयारी में है। लोकल ट्रेनों के शुरू होने से पलवल, नई दिल्ली, शकूरबस्ती और गाजियाबाद आने-जाने वाले पांच हजार से अधिक दैनिक यात्रियों को सुविधा होगी।

रेलवे बोर्ड ने स्टेशन प्रबंधकों और कमर्शियल विभाग के अधिकारियों का पत्र लिख सभी जरूरी तैयारी करने के आदेश दिए हैं। रेलवे सूत्रों का कहना है कि ट्रेनों का परिचालन संभव: 18 फरवरी से शुरू हो सकता है। इसी के साथ स्टेशनों पर लोकट टिकट लिए काउंटर भी खोल दिए जाएंगे।

यह भी कहा जा रहा है कि इन ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों से मेल-एक्सप्रेस ट्रेन का किराया वसूला जा सकता है। यानी यात्रियों का सामान्य टिकट के बजाय अपनी जेब ढीली करनी पड़ेगी। अभी फरीदाबाद-पलवल सेक्शन में दो एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन शुरू हुआ है। इनमें गीता जयंती एक्सप्रेस और आगरा इंटरसिटी एक्सप्रेस है। इन दोनों ट्रेनों में अभी रिजर्वेशन टिकट से ही यात्री सफर कर सकते हैं।

रेलवे बोर्ड ने पत्र भेजकर अपने-अपने स्टेशन पर तैयारी करने के दिए आदेश

इन ट्रेनों को चलाने की है योजना| रेलवे सूत्रों के अनुसार बोर्ड अभी पलवल से चलकर नई दिल्ली, शकूरबस्ती होते हुए गाजियाबाद जाने वाली 64053 और शकूरबस्ती से चलकर नई दिल्ली, फरीदाबाद होते हुए पलवल तक जाने वाली 64016 को चलाने की योजना बनाई है।

पलवल से गाजियाबाद जाने वाली 64053 सुबह 6 बजे पलवल से चलेगी और 6.17 बजे बल्लभगढ़ और 6.27 बजे फरीदाबाद पहुंचेगी। सुबह 7.23 बजे नई दिल्ली और 8.02 बजे गाजियाबाद पहुंचेगी। जबकि शकूरबस्ती से चलकर पलवल को जाने वाली 64016 शटल दोपहर ढाई बजे चलेगी। 3.49 बजे ओल्ड फरीदाबाद, 3.59 बजे बल्लभगढ़ और 4.55 बजे पलवल पहुंचेगी।

5000 से अधिक यात्री कर सकेंगे सफर| दो शटल ट्रेनों के चलने से पलवल नई दिल्ली सेक्शन के 5000 से अधिक दैनिक यात्री इसका लाभ ले सकेंगे। शटल में चलने वाले यात्रियों की क्षमता की बात करें तो एक कोच में कुल 28 से 30 सीटें होती हैं।

यानी एक कोच में 112 से 120 यात्रियों के बैठने की क्षमता होती है। लेकिन सफर करते हैं दो गुना। यात्री औसतन एक कोच में सामान्य दिनों में 250 से अधिक यात्री चलते हैं। 12 कोच वाली शटल की बात करें तो 1344 से 1350 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था होती है। जबकि चलते 2500 से अधिक।

शटल ट्रेनों का यह हो सकता है किराया
रेलवे सूत्रों के अनुसार शटल ट्रेनों को जो स्पेशल मेल/एक्सप्रेस की बात कहकर चलाने की बात कही जा रही है उस हिसाब से यात्रियों को अधिक पैसे खर्च करने पड़ सकते हैं। सामान्य दिनों में मेल/एक्सप्रेस का जो किराया होता है। पलवल से ओखला तक 30 रुपए और हजरत निजामुद्दीन और नई दिल्ली का किराया 35 रुपए ।

फिर चाहे यात्री पलवल से असावटी उतरे या फिर न्यूटाउन। उसे 30 रुपए देना होगा। जबकि शटल का सामान्य किराया तुगलकाबाद तक 10 रुपए और उसके आगे दिल्ली तक 20 रुपए है। उधर कमर्शियल विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अभी हमें तैयारी करने के आदेश मिले हैं। किराया क्या होगा और कब से चलेगी, यह पत्र मिलने के बाद ही कहा जा सकता है।

सामान्य ट्रेनों से अधिक होगा किराया| रेलवे सूत्रों की मानें तो जो शटल ट्रेनों की चलाने की योजना है उसका किराया सामान्य ट्रेनों से अधिक होगा। बताया जा रहा है इन शटल ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों से मेल/एक्सप्रेस ट्रेन का किराया वसूला जा सकता है।

रेलवे सूत्रों ने बताया उम्मीद है 18 फरवरी से ट्रेनों का परिचालन शुरू कर दिया जाए। उत्तर रेलवे की सीनियर ट्रैफिक मैनेजर कविता अग्रवाल की ओर जारी पत्र में कहा गया है कि संबंधित अधिकारी ट्रेनों के परिचालन को लेकर तैयारी कर लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query