स्वाभाविक मौत परिजन मानने को तैयार नहीं

देवघर (सुनीता मजुमदार): पुलिस हिरासत में सदर हॉस्पिटल में भर्ती मोहनपुर थाना क्षेत्र के लेटवावन गांव निवासी होमगार्ड जवान शालिग्राम यादव की मौत गत दिन हो गया था। पुलिस इस मौत को स्वाभाविक मौत करने पर भी परिजन इसे मानने को तैयार नहीं है। शालिग्राम यादव पुलिस अधीक्षक कार्यालय में कार्यरत थे। घटना के बाद मृतक के परिजनों ने पुलिस पर हिरासत में लेकर प्रताड़ित किए जाने का आरोप लगाते हुए सदर अस्पताल में जमकर हंगामा किया तथा परिजनों का आरोप पुलिस ने पीटा था तथा जहर देकर उसे मारा गया है। आक्रोश तथा हंगामा को देखते हुए हस्पताल को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। आरोप लगने के बाद एएसआई जसवंत सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। ज्ञात हो कि, मोहनपुर रेप केस मामले में शालिग्राम के बेटे को संदीप ने बताया गया था। बेटे को सरेंडर करने लिए शालिग्राम को हिरासत में लिया गया था। पर परिजनों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाया की होमगार्ड जवान की मौत होने के बाद परिजनों ने सदर हॉस्पिटल में पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए हंगामा करते हुए आक्रोश व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि शालिग्राम को प्रताड़ित किया गया है ।पिता के शव के साथ लिपटकर रोते हुए पुत्री रिंकू देवी ने बताया कि मरने से पहले किसी बात की आशंका होने पर पिता ने उसे व उसके छोटे बहन को बताया कि, एसपी ने पुलिस पदाधिकारी को पकड़कर पिटाई करने का निर्देश दिया,ताकि बेटे को पुलिस के समक्ष प्रस्तुत कर सके ।पहले तो उनके पिता को मोहनपुर पुलिस के पदाधिकारी ने पिटाई कर दिया था। शालिग्राम की बेटी ने पुलिस पदाधिकारी पढ़ कस्टडी में जहरीला पदार्थ खिलाने का भी आरोप लगाया है। दूसरी बार शालिग्राम को लिया गया था हिरासत में। मोहनपुर थाना के क्षेत्रों में बीते शनिवार की सुबह हुई एक गैंगरेप के मामले में संदीप ने आरोपित के पिता शालिग्राम यादव को पुलिस ने पूछताछ के लिए रविवार को उठाया था परिजनों का कहना है कि 2 दिनों तक पूछताछ के बाद उन्हें बुधवार को छोड़ दिया गया था। इसके बाद फिर गुरुवार को सुबह एक बार पुलिस ने उन्हें उठाया बच्चा 20 घंटे के अंदर बेटे को पुलिस के सामने प्रस्तुत करने को लेकर दबाव बनाया। इस दौरान गुरुवार की शाम उसकी तबीयत बिगड़ गई वह आनन-फानन में पुलिस के एक पदाधिकारी ने उन्हें अपने वाहन से पहले उसे मोहनपुर सीएससी पहुंचाया मगर सीएससी प्रबंधन ने उसे सदर अस्पताल में इलाज के लिए ले जाने की सलाह दी। तबीयत ज्यादा बिगड़ने की स्थिति में गुरुवार की शाम समय उसे सदर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया ऑन ड्यूटी चिकित्सक ने उपचार शुरू कर दिया था। उपचार के क्रम में चिकित्सक ने जहरीला पदार्थ खाने की आशंका जताते हुए बैद्यनाथ धाम धाम ओपी पुलिस को मामले से अवगत कराया। इस बीच शुक्रवार की सुबह सदर अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।
मोहनपुर कांड का मामला व पुलिस पर इस गंभीर आरोप को डीआईजी दुमका सुदर्शन मंडल गंभीरता से लेते हुए कहा है कि,मोहनपुर थाना प्रभारी सहित नगर थाने के एएसआई जसवंत कुमार कुंडा थाना के एसआई प्रवीण कुमार को तत्काल लाइन क्लोज कर दिया गया है । मामले की उच्चस्तरीय जांच कराई जा रही है ।रिपोर्ट प्राप्त होते ही निलंबन की कार्रवाई की जाएगी। तथा पुलिस पदाधिकारियों प्रताड़ित करने व जहरीला पदार्थ खिलाने के आरोप पर देवघर एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने कहां है कि,अपनों को खोने के गम सभी को होता है। परिजनों की में आक्रोश होता है। लोगों को यह समझ नहीं आता कि वह क्या बोल रहे हैं इस मामले में एसआईटी में शामिल एसआई जसवंत सिंह को बड़ी हो पदाधिकारी को बैगर जानकारी दिए शालिग्राम को उठाने व पूछताछ के मामले में सस्पेंड किया गया है।
इस मौत के मामले में तूल पकड़ने के बाद झारखंड वेलफेयर एसोसिएशन ने मामले में मुख्यमंत्री झारखंड पुलिस वाह ओमकार डीजे को ट्वीट कर देवघर एसपी पर कार्रवाई की मांग की है इस पर पुलिस मुख्यालय ने दुमका डीआईजी को मामले में संघ लेकर आवश्यक कार्रवाई करने को कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query