ऑनलाइन एजुकेशन से बच्चों के समझ में कुछ नहीं आया

सूरत : काेराेना महामारी का सबसे ज्यादा असर बच्चाें की पढ़ाई पर पड़ा है। बच्चों की पढ़ाई खराब न हो इसलिए सरकार ने ऑनलाइन एजुकशन का आदेश दिया था, पर ऑनलाइन पढ़ाई से बच्चों के समझ में कुछ नहीं आया। मई महीने में 10वीं, 12वीं की बोर्ड की परीक्षाएं होने वाली हैं। गुजरात बोर्ड ने प्रश्नपत्र का नया प्रारूप तैयार किया है। इसे वेबसाइट पर भी अपलोड कर दिया गया है।

स्कूल छात्रों को ऑफलाइन पढ़ाकर इसी आधार पर बोर्ड की तैयारी में जुट गए हैं। बता दें कोरोना महामारी को देखते हुए सरकार ने 30% कोर्स कम दिया है। इसके बावजूद स्कूलों को पूरा सेलबस पढ़ाना जरूरी है। बोर्ड की परीक्षा में 70% सेलबस से ही प्रश्न पूछे जाएंगे। छात्र अभी से बोर्ड की तैयारी में जुट गए हैं।

काेरोना परीक्षा: बोर्ड ने प्रश्नपत्र में इस तरह बदलाव किया है

दसवीं और बारहवीं में काॅमर्स और आर्ट्स में विकल्प प्रश्न 30 मार्क्स के होंगे, पहले 20 मार्क्स के होते थे। दसवीं, बारहवीं में थियरी में इंटरनल की जगह अब जनरल ऑप्शन के प्रश्न होंगे। बोर्ड ने कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए प्रश्नपत्र में काफी बदलाव किया है। गुजरात बोर्ड ने प्रश्नपत्र का प्रारूप वेबसाइट पर रखा है, छात्र इससे परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं।

खराब रिजल्ट: टेस्ट में छात्र प्रश्नपत्र हल नहीं कर पाए, अब तैयारी में जुटे

स्कूल खोलने की मंजूरी मिलने के बाद 10वीं और 12वीं के छात्रों का टेस्ट लिया गया था। जिसमें अधिकांश छात्र प्रश्नपत्र हल नहीं कर पाए थे। खराब रिजल्ट आने के बाद छात्रों ने स्कूल से पाठ्यक्रम को दोबारा पढ़ाने की मांग की थी। बोर्ड की परीक्षा को ध्यान में रखते हुए स्कूल छात्रों की तैयारी करवा रहे हैं।

उम्मीद है कि कोरोना की वजह से इस साल गुजरात बोर्ड दसवीं, बारहवीं का प्रश्नपत्र काफी सरल बनाएगा। बोर्ड के नए प्रश्नपत्र के प्रारूप के आधार पर स्कूल छात्रों की तैयारी करवा रहे हैं।
-जगदीश चावड़ा, प्रवक्ता, स्कूल संगठन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query